DUSU चुनाव में AVBP का अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव का पद पर कब्जा, NSUI के हाथ आया सचिव पद

228
दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्र संघ (DUSU) चुनाव के नतीजे आ गए हैं। DUSU में चुनाव में जीतने का दावा तो चुनाव में उतरें सभी छात्रसंघ कर रहे थे। लेकिन कल जब भारी हो-हंगामे के बाद DUSU चुनाव का रीजल्ट आया तो AVBP यह मुकाबला 3-1 से जीत गई। ABVP ने डूसू चुनाव में अध्यक्ष पद के साथ-साथ उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव का पद भी अपने नाम किया। अगर सचिव के पद पर AVBP के उम्मीदवार सुधीर को NSUI के आकाश से पटखनी नही मिलती तो AVBP इस बार के DUSU चुनाव में क्लीन स्वीप कर जाती। DUSU चुनाव परिणामों के नतीज़ों में एबीवीपी प्रत्याशी अंकिव बसोया ने अध्यक्ष, शक्ति सिंह उपाध्यक्ष और ज्योति चौधरी ने संयुक्त सचिव पद पर जीत दर्ज की है। वहीं सचिव पद पर कांग्रेस समर्थित एनएसयूआई के आकाश चौधरी ने जीत का परचम लहराया है।
AVBP के अंकित बसोया ने NSUI के अपने प्रतिद्वंद्वीसन्नी छिल्लर को 1744 वोटों से हराकर अध्यक्ष पद पर कब्जा जमाया। अंकित को जहां 20,467 वोट प्राप्त हुए वहीं एनएसयूआई के सन्नी के हिस्से में 18,723 मत आए। बात करें उपाध्यक्ष पद की तो यहां भी AVBP की प्रत्याशी शक्ति सिंह ने बाजी मारते हुए NSUI की अपनी प्रतिद्वंद्वी लीना को 8046 वोटों से शिकस्त देकर उपाध्यक्ष हथिया लिया। जहां AVBP की शक्ति सिंह को 23,046 वोट मिले, वहीं एनएसयूआई की लीना को 15,000 मत प्राप्त हुए। DUSU चुनावों में NSUI के जो सिर्फ एक पद हाथ आया है, वो उन्हें सचिव पद के रूप में मिला है। सचिव पद पर NSUI के आकाश ने एबीवीपी के सुधीर को 6089 वोटों से हराने में सफलता पाई। आकाश को जहां 20,198 वोट हासिल हुए, वहीं एबीवीपी के सुधीर के पक्ष में 14,109 मत पड़े।
DUSU चुनावों में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद अपने नाम करने वाली AVBP ने संयुक्त सचिव पद पर भी अपनी जीत का झंडा गाड़ दिया। इस पद के लिए AVBP की प्रत्याशी ज्योति चौधरी ने अपने प्रतिद्वंद्वी एनएसयूआई के सौरभ को 4972 वोटों से मात दे दी। चुनाव में ज्योति ने जहां 19,353 वोट हासिल किए, वहीं सौरभ को कुल 14,381 वोट ही नसीब हुए। इस तरह चार में से तीन पदों पर भाजपा समर्थित छात्र संगठन AVBP ने अपना परचम लहराया और वहीं सिर्फ सचिव पद जीतकर कांग्रेस समर्थित NSUI किसी तरह अपना खाता खोलने में सफल रहीं। लेकिन ऐसा नही है कि इस चुनाव में सबकों कुछ न कुछ मिल ही गया। DUSU चुनाव में AVBP और NSUI के अलावा एक गठबंधन में लड़े लेफ्ट और आम आदमी पार्टी की छात्र इकाई के दोनों हाथ खाली ही रह गए।
हालांकि, चुनावी परिणाम घोषित होने से पहले वोटों की गिनती के दौरान ‘ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी’ होने पर मतगणना रुक गई थी। जिसके बाद छात्र संगठनों द्वारा कैम्पस में जमकर हंगामा खड़ा कर दिया गया। ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की बात सामने आने के बाद जहां कांग्रेस से जुड़े संगठन एनएसयूआई ने नए सिरे से चुनाव कराने की मांग की, वहीं भाजपा समर्थित छात्र संगठन एबीवीपी ने मतगणना दोबारा से शुरू कराने को कहा। इसके बाद सर्वसम्मति से यह फैसला लिया गया कि मतगणना फिर से शुरू की जाएगी। ज्ञात हो कि मतगणना रुकने से पहले, शुरुआती रुझान में कांग्रेस समर्थित एनएसयूआई अध्यक्ष पद पर बढत बनाए हुए थी जबकि एबीवीपी का उम्मीदवार उपाध्यक्ष पद पर आगे चल रहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here