44 साल पुराने इतिहास को दोहराने के दहलीज़ पर खड़ी है भारतीय महिला हॉकी टीम

150

​लंदन में इन दिनों महिला हॉकी विश्वकप चल रहा है। इस खेल में अब तक भारतीय महिला हॉकी टीम ने ऐसा खेल दिखाया है जिसके बूते वह एक इतिहास रच चुकी है और दूसरे को दोहराने से अब बस एक कदम दूर है। भारत ने प्लेऑफ मुकाबले में इटली जैसी मजबूत टीम को 3-0 से हराकर क्वाटर फाइनल में जगह बना ली। यह जीत भारत के लिए कितनी ज्यादा बड़ी है इस बात का अंदाजा हम इस बात से लगा सकते हैं कि भारत आखिरी बार 1978 में क्वाटर फाइनल में जगह बनाने में सफल रहा था।

यानी इटली के खिलाफ प्लेऑफ में 3-0 से मिली जीत की बदौलत भारतीय हॉकी टीम को करीब 40 साल बाद क्वाटर फाइनल में खेलने का मौका मिल रहा है। इटली के खिलाफ मिली अप्रत्याशित जीत के बाद भारत की नजर क्वाटर फाइनल में आयरलैंड को हरा सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाने पर होगी। अगर भारतीय महिला हॉकी टीम ऐसा करने में सफल रही तो 44 साल पुराने इतिहास को दोहरा देगी। क्योंकि इससे पहले पहली बार और एकमात्र बार भारतीय महिला हॉकी टीम हॉकी विश्वकप मुकाबले में अंतिम चार में जगह बनाने में सफल रही थी।

लंदन में चल रहे महिला हॉकी विश्वकप में अब तक भारतीय महिला हॉकी टीम का प्रदर्शन ठीक-ठाक ही रहा है। हमने पहले दो मुकाबलों में अमेरिका और इंग्लैंड इन दोनों ही टीमों के साथ 1-1 से ड्रा खेला। इसके बाद आयरलैंड के खिलाफ एक कड़े मुकाबले में हमारी टीम 0-1 से हार गई। इस हार ने भारत के अगले स्टेज में पहुंचने की उम्मीदों को बहुत धुंधला कर दिया। लेकिन महिला हॉकी टीम के खिलाड़ियों के कुछ कर गुजरने के जज्बे की बदौलत भारत ने इटली को 3-0 के बड़े अंतर से हराकर क्वाटर फाइनल में जगह बना ली।

इस तरह भारत की महिला हॉकी टीम ने 40 साल बाद हॉकी विश्वकप के अंतिम आठ में जगह पक्की कर ली। जहां उसका मुकाबला आयरलैंड की टीम से होना है। अगर भारतीय महिला हॉकी टीम किसी भी तरह इटली के खिलाफ खेले गए अपने पिछले प्रदर्शन को आयरलैंड के खिलाफ दोहराने में सफल रही, तो भारतीय महिला हॉकी टीम 44 साल बाद एक बार फिर हॉकी विश्वकप का सेमीफाइनल खेलती नजर आएगी। इससे पहले भारतीय टीम 1974 में फ्रांस में हुए विश्व कप में सेमीफाइनल में पहुंची थी और टूर्नामेंट में चौथे स्थान पर रही थी।

लेकिन 44 साल पुराने इतिहास को दोहराना इतना भी आसान नही है जितना कि इसे आशा और उम्मीदों से सजी नजरों से हम भारतीय देख रहे है। क्योंकि क्वाटर फाइनल में हमारा मुकाबला उस आयरलैंड की टीम से है जिसके साथ हम ग्रुप स्टेज में पहले ही 0-1 से मुकाबला हार चुके है। सिर्फ इस मुकाबले में ही नही तो इससे पहले भी जब पिछले साल दक्षिण अफ्रीका के जोहांसबर्ग में आयोजित विश्व हॉकी लीग के सेमीफाइनल में हमारी टीम का मुकाबला आयरलैंड से हुआ था, तब भी हमें आयरलैंड के हाथों 1-2 से हार झेलनी पड़ी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here