दुनिया के सबसे प्राचीनतम शहरों की सेर

337
कांक्रीट के इमारत और इतिहास की इमारत में जो सबसे बड़ा बुनियादी फर्क है, वह यह कि एक पुरानी होने पर हर बीतते दिन जर्जर होती चली जाती है। तो दूसरी बीतते समय के साथ दिन-ब-दिन और ज्यादा निखरते चले जाती है। वर्तमान के बरामदे में बैठ कर अतीत के आंगन में झांकने का एहसास एक अनोखी अनुभूति कराता है। लेकिन जरा सोचिए, जब अतीत के आंगन में खड़ी इतिहास की इमारत को निहारने भर में इतना आंनद है। तो ऐसे प्राचीनतम शहरों और नगरों में भ्रमण अनुभव कैसा होगा।

तो चलिए आज हम आप सभी को दुनिया के उन आठ प्राचीनतम शहरों के सैर कराते है, जिनका वजूद हजारों साल पहले भी था। और आज भी यह शहर उतनी ही मजबूती से अपने अस्तित्व को बनाए हुए है।

1)बनारस:- Benaras ,Varanasi 

कहते है जिस जीवन मे रस ना हो, उसे जीने में मजा नही आता। लेकिन जरा सोचिए, जिस शहर का नाम ही रस में डूबा हुआ हो। वहां के जीवन में कितना उत्साह और उल्लास होगा। भारत ही नही तो एशिया के सबसे प्राचीन शहर में शुमार होने वाला शहर है उत्तरप्रदेश में स्थित बनारस। ऐतिहासिक प्रमाण के आधार पर बनारस में मानव सभ्यता 3000 साल पुरानी है। लेकिन कुछ विद्वानों का मानना है कि बनारस शहर का इतिहास 8000 साल पुराना है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार बनारस शहर भगवान शिव जी के त्रिशूल पर टिका हुआ है। बनारस को काशी और वाराणसी के नाम से भी जाना जाता है। दिल्ली तो देश की राजनीतिक राजधानी है। लेकिन बनारस यह धर्म प्रधान देश भारत की आध्यात्मिक बौर सांस्कृतिक राजधानी कहा जाता है।

2) मक्का:- Mecca

मक्का यह धार्मिक रूप से मुस्लिमों के लिए दुनिया की सबसे पवित्र जगह है। सऊदी अरब के हेजाज़ प्रांत की राजधानी मक्का इस्लाम धर्म के आख़िरी पैग़ंबर मोहम्मद साहब की जन्मस्थली भी है। इस वजह से इसका ऐतिहासिक महत्व कई गुना बढ़ जाता है। मक्का में स्थित इस्लाम धर्म के सबसे पवित्र स्थलों में से एक काबा मौजूद है। जिसके बारे में यह कहा जाता है कि इसकी शुरुआत यहूदी धर्म के पैग़ंबर अब्राहम द्वारा ईसा पूर्व 2000 में हुई थी।यानी ओस शहर का अस्तित्व आज से करीब 4000 वर्ष पुराना है।

3) बगदाद:- Baghdad

इराक की राजधानी बगदाद हाल के दिनों में गलत वजहों से चर्चा में है। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि दुनिया के सबसे प्राचीन शहरों के से एक बगदाद का इतिहास करीब 6000 साल पुराना है। इस शहर का भारत के साथ बहुत प्राचीन रिश्ता है। दरअसल इराकी प्राचीन सभ्यता और सिंधु घाटी सभ्यता से प्राप्त अवशेषों के आधार पर दोनों के बीच अपनी संबंधो का खुलासा हुआ। बगदाद बाबुली और सुमेर जैसी प्राचीन सभ्यताओं की जन्मस्थली रहा। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार यहीं के एक बाग में आदम और हव्वा रहा करते थे।

4)तेहरान:-Tehran
ईरानी की राजधानी तेहरान पारसी धर्म की जन्मस्थली रही हैं। आज दुनिया के हर एक कोने में जितने भी पारसी है मौजूद है, उन सभी के पूर्वज ईरान से ही संबंध रखते हैं। क्योंकि एक समय पारसी धर्म ईरान का राजधर्म हुआ करता था। जैसे हिंदुओ का धार्मिक स्थल भारत मे मौजूद है और मुस्लिमों का अरब में।उसी तरह धार्मिक रूप से पारसियों की सबसे पवित्र स्थल पश्चिमी ईरान के सिस्तान प्रांत की हमुन झील के पास खाजेह पर्वत पर था। इसकी खोज में यहां से 250 ईसापूर्व बने मंदिर के अवशेष मिले थे।

 

5)रोम:- Rome

इटली की राजधानी रोम को जिसने भी देखा। वह उसके रोम-रोम में बस गया। यह शहर जितना खूबसूरत है उतना ही प्राचीन भी। इस शहर से कई प्राचीन और महान सभ्यताओं के इतिहास जुड़ा हुआ है। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि रोम का जिक्र महाभारत में युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में उपहार लेकर आने वाले विदेशियों के रूप में भी मिलता है। मान्यताओं के अनुसार रोम नगर की नींव ‘वर्गाकार रोम’ के रूप में पैलेटाइन पहाड़ी पर रॉमुलस के द्वारा डाली गई थी।

 

6) काहिरा:-Kahira /Cairo

दुनिया के सात अजूबों में से एक गीजा का पिरामिड की इस इलाके में मौजूदगी इस शहर के प्राचीन होने का प्रमाण और प्रतीक दोनों ही है। इतना ही नही तो दुनिया की प्राचीन सभ्यताओं में से एक यह सभ्यता नील नदी के किनारे बसी हुई हैं। प्राचीन म्रिस उत्तर में भूमध्य सागर, उत्तर पूर्व में गाजा पट्टी और इसराइल, पूर्व में लाल सागर, पश्चिम में लीबिया एवं दक्षिण में सूडान से घिरा हुआ है। करीब 4000 हजार साल पुराना शहर अफ्रीका, अरब और रोमन जैसी सभ्यताओं के मिलन स्थल है।
7)

जेरुसलम:-Jerusalem

जेरुसलम ऐसा शहर है जिसका जितना राजनीतिक वजूद है उतना ही ज्यादा ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व है। वर्तमान में इजराइल की राजधानी जेरुसलम दुनिया के तीन प्रमुख धर्म यहूदी, इस्लाम और ईसाई का पवित्र स्थल है। धर्मग्रंथों के अनुसार यहूदियों का परमपवित्र सुलैमानी मन्दिर यहीं पर स्थ‍ित था, जिसे रोमनों ने नष्ट कर दिया था। इसके अलावा यह शहर ईसा मसीह की कर्मभूमि भी रहा है जबकि यहीं से हज़रत मुहम्मद स्वर्ग गए थे। हिब्रू भाषा में लिखी बाइबिल में इस शहर का नाम 700 बार आता है। ईसाई और यहूदी धर्मावलंबियों की माने तो यह दुनिया का केंद्र है।

8) एथेंस:-Athens

अरस्तू, प्लूटो, सुकरात, डायोनीस, होमर, आर्कमेडिस जैसे हजारों महान दार्शनिको और वैज्ञानिको का जन्मस्थान है एथेंस। इसके अलावा विश्वविजेता सिकंदर भी एथेंस की जमीन से ही निकले। एथेंस की यूनानी सभ्यता भारत की हड़प्पा संस्कृति ओर इटली की रोम सभ्यता जीतनी पुरानी है। यूनान पर भारतीय धर्म और संस्कृति का गहरा असर था और रोमन साम्राज्य पर प्राचीन यूनान का गहरा असर था। एथेंस में मानव सभ्यता का वजूद तीन हजार सालों से भी ज्‍यादा पुराना है।