लाल चौक पर झंडा फहराने वालों के साथ स्थानीय लोगों की हाथापाई

190
​भारत में जब भी किसी व्यक्ति या संस्था की देशभक्ति अपने चरम पर पहुंच जाती है तो वो जम्मू-कश्मीर के लाल चौक पर झंडा फहराने के लिए पहुंच जाता है। नतीजतन बाहर से झंडा फहराने आए लोगों के साथ स्थानीय लोगों की झड़प हो जाती है और इसी बहाने घाटी का माहौल फिर गरमा जाता है। ऐसा ही ताजा मामला लाल चौक से बीते मंगलवार को सामने आया।
यहां 14 अगस्त को कुछ लोगों के समूह ने लाल चौक पर तिरंगा फहराने की कोशिश की। जिसका विरोध करते हुए स्थानीय लोगों ने उन्हें न सिर्फ लाल चौक पर तिरंगा फहराने से रोका बल्कि उनके साथ मारपीट भी की। गनीमत रही कि घटनास्थल पर पहुंचकर पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों ने लाल चौक पर झंडा फहराने आए लोगों को स्थानीय लोगों की चंगुल से छुड़ा लिया।
इस घटना के संदर्भ में अधिक जानकारी देते हुए श्रीनगर के एसपी दाऊद अय्यूब ने बताया,”ये लोग मंगलवार की दोपहर करीब एक बजे लाल चौक के घंटाघर पहुंच गए थे। तिरंगा फहराने को लेकर उनकी स्थानीय लोगों से पहले बहस हुई थी और फिर बात मारपीट तक पहुंच गई।” एसपी दाऊद अय्यूब ने आगे बताया कि मामले में दोनों पक्षों के कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है।
गौरतलब है कि घाटी में जारी अलगाववादी आंदोलन में लाल चौक बहुत संवेदनशील इलाका है। कश्मीर में हालात बिगड़ने के बाद अक्सर सबसे ज्यादा हिंसा की घटनाएं इसी इलाके से आती है। यहां भारतीय झंडा फहराने को लेकर टकराव के ऐसे कई किस्से पहले भी सामने आ चुके है। अभी पिछले साल ही राइट विंग ग्रुप शिवसेना ने कुछ लोगों को श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा फहरना के लिए भेजा था, जिसके बाद भी बहुत बवाल हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here