पुण्यतिथि विशेष: गब्बर सिंह के किरदार को अमर कर गए अमजद खान

176
किसी कलाकार की सबसे बड़ी उपलब्धि यह होती है कि लोग उसके असल नाम की बजाय उसके द्वारा निभाए गए किरदार के नाम से जाने। इस उपलब्धि को हासिल करने वाले चंद नामों में अमजद खान का नाम भी शामिल है, जिनकी आज पुण्यतिथि है। कौन अमजद खान? यह सवाल ज्यादा नही तो थोड़े बहुत लोगों के मन मे जरूर आया होगा। लेकिन अगर में कहूं कि आज ‘गब्बर सिंह’ की पुण्यतिथि है तो इस बात की संभावना नगण्य होगी कि कोई यह सवाल करे कि कौन गब्बर सिंह?
क्योंकि गब्बर सिंह का नाम सुनते ही 1975 में बनी फिल्म शोले के इस किरदार का चेहरा,उसके हावभाव, उसके डायलॉग, उसका अंदाज सब कुछ आंखों के आगे तैर जाएगा। अमजद खान द्वारा निभाए गए इस किरदार का भारतीय दर्शक, भारतीय सिनेमा और खुद अमजद खान की जिंदगी पर ऐसा प्रभाव पड़ा कि लोग अमजद खान और शोले दोनों को गब्बर सिंह के नाम से जानने लगे। अमजद खान द्वारा निभाए गए इस किरदार की चमक का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसके आगे फ़िल्म के सारे किरदार फीके पड़ गए।
लेकिन आपको यह जानकर बहुत ज्यादा आश्चर्य होगा गब्बर सिंह का किरदार अमजद खान की बजाय डैनी के लिए लिखा गया था। यानी फ़िल्म निर्माताओं के लिए गब्बर सिंह के रूप में पहली पंसद अमजद खान नही बल्कि डैनी थे। लेकिन नियति को कुछ और ही मंजूर था। इसलिए जब डैनी ने गब्बर सिंह के किरदार को करने से मना कर दिया तब यह किरदार करने का मौका अमजद खान के हाथों लग गया। पहले तो अमजद खान गब्बर सिंह का किरदार निभाने को लेकर थोड़ा सहम गए। लेकिन जब उन्होंने इसे निभाया तो फिर भारतीय सिनेमा इतिहास में किरदार को और किरदार के ज़रिए खुद को अमर कर दिया।12 नवंबर 1940 जन्मे अमजद खान के अंदर अभिनय या फिर कहे खलनायत्व कूट-कूट कर भरा था। क्योंकि उनके पिता जयंत भी फिल्म इंडस्ट्री में खलनायक रह चुके थे। अमजद खान ने बतौर कलाकार अपने अभिनय जीवन की शुरूआत वर्ष 1957 में प्रदर्शित फिल्म अब दिल्ली दूर नही से की। इसके बाद उन्होंने  कुर्बानी, लावारिश, मां कसम जैसी कुछ बेहद सफल फिल्में की। इन फिल्मों मर निभाए अपने शानदार अभिनय के चलते उन्हें कई राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिले। भारतीय सिनेमा का यह शानदार कलाकार साल 1986 में एक दुर्घटना का शिकार हो गया। जिसके बाद से उनकी तबियत खराब रहने लगी। नतीजतन 27 जुलाई 1992 को अमजद खान उर्फ गब्बर सिंह इस दुनिया को अलविदा कह गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here