तीन तलाक के बचाव में कांग्रेसी नेता दलवाई ने मां सीता को लेकर भगवान राम पर साधा निशाना

410
तीन तलाक के बचाव में कांग्रेसी नेता दलवाई ने मां सीता को लेकर भगवान राम पर साधा निशाना
लोकसभा में पास हो जाने के बाद ‘तीन तलाक’ से जुड़ा विधेयक पास हो जाने के बाद उसे कानून में तब्दील करने के लिए उसका राज्यसभा से भी पास होना बहुत जरूरी है। मानसून सत्र के आखिरी दिन इस विधेयक को राज्यसभा में पास कराने के किये सरकार ने इस बिल को उच्च सदन के सामने में भी रखा है। इस बिल को इससे पहले भी राज्यसभा में पास कराने के लिए लाया गया था लेकिन तब विपक्ष की तरफ से विधेयक में कुछ संशोधन की मांग की गई थी। विपक्ष की मांग को मानकर सरकार ने जरूरी संशोधनों को स्वीकारते हुए संशोधित तीन तलाक बिल को दोबारा राज्यसभा में पेश किया।

इस संवेदनशील विधेयक पर संभल-संभलकर अपना पक्ष रखने की बजाय कांग्रेस के महाराष्ट्र से राज्यसभा सांसद हुसैन दलवाई ने विवादास्पद बयान देकर मामले को और ज्यादा भड़काकर इसे पेचीदा कर दिया। दलवाई ने कहा,” ‘महिलाओं के साथ हर समुदाय में अनुचित व्यवहार किया जाता है, केवल मुस्लिमों में नहीं। यहां तक कि हिंदू, ईसाई, सिखों आदि में भी। हर समाज में पुरुषों का वर्चस्व है। यहां तक कि श्रीराम चंद्र जी ने भी एक बार सीता को शक के आधार पर छोड़ दिया था। इसलिए हमें सभी को बदलने की जरुरत है।”
मुस्लिम महिलाओं पर तीन तलाक के चलते होने वाले अत्याचार को रोकने के लिए सरकार द्वारा लाए का रहे बिल पर कांग्रेस अपने ढुलमुल रवैए के कारण पहले से ही बीजेपी के निशाने पर है। और अब कांग्रेस के एक राज्यसभा सदस्य द्वारा भगवान राम के लिए दिया गया इस तरह का बयान बीजेपी के लिए राजनीतिक तुरुप का इक्का साबित हो सकता है। कथित रूप से मुस्लिम तुष्टीकरण का आरोप झेलने वाली कांग्रेस की इस बयान के चलते आने वाले समय मुश्किलें बढ़ना तय है। बाकि अगर इस समय के राजनीतिक हालातों को देखे तो तीन तलाक का तमाम अडचनों के बावजूद राज्यसभा के पास होने के पूरे आसार नजर आ रहे हैं। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here