क्या होता है IAS, IPS और IFS में फ़र्क की परिभाषा

1035

वैसे तो हम लोग IAS, IPS और IFS के बारे में सुनते हैं मग़र हममें से बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो इनका फुल फ़ॉर्म, इनका शाब्दिक अर्थ, इनके चयन का तरीका और इनकी सैलॅरी के बारे में नहीं जानते। तो आज हम इन तीनों के बारे में विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे।

UPSC (Union Public Service Commission) मतलब, संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा में प्री, मेंस और इंटरव्यू के बाद इन पदों पर नियुक्तियां की जाती हैं। IAS और IPS का पद एक विशेष अधिकार से परिपूर्ण होता है। इन्हें भारतीय लोकतंत्र का ध्वजवाहक भी कहा जाता है। ये लोक सेवा अधिकारियों के तौर पर जाने जाते हैं। इनके कार्यक्षेत्र, सैलॅरी और भूमिकाएँ भी भिन्न-भिन्न होती हैं।

IAS (Indian Administrative Service) आईएएस का शाब्दिक अर्थ होता है भारतीय प्रशासनिक सेवा। संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा में टॉप रैंक अर्जित करने वाले कैंडिडेट्स को IAS के तौर पर नियुक्त किया जाता है। एक IAS अधिकारी का काम होता है कि वह संसद द्वारा बनाए गए कानून को अपने कार्यक्षेत्र में लागू करे। इसके साथ नई नीतियों और क़ानूनों के तैयार होने में भी अपनी अहम भूमिका निभाएं। आपको बता दें कि ये अधिकारी कैबिनेट सेक्रेटरी और अंडर सेक्रेटरी भी बन सकते हैं।

IPS (Indian Police Service) का शाब्दिक अर्थ होता है भारतीय पुलिस सेवा। आईपीएस अधिकारी अपने कार्यक्षेत्र में कानून व्यवस्था को बनाए रखने का काम करते हैं। आपको बता दें कि आईपीएस अधिकारी SP से लेकर IG, DEPUTY IG, DGP भी बनाए जाते हैं। ये अधिकारी निडर होते हैं, लोगों को समानता की नज़र से देखते हैं। जहां IAS का काम नियम बनाना होता है वहीं IPS का काम होता है उस नियम को ज़मीन पर लागू करना।

IFS (Indian Foreign Service) आईएफ़एस का शाब्दिक अर्थ भारतीय विदेश सेवा होता है। ये अधिकारी विदेश मामलों में अपनी सेवा प्रदान करते हैं। एक आईएफएस अधिकारी बनने से पहले कैंडिडेट्स को UPSC की परीक्षा पास करने के बाद तीन साल का ट्रेनिंग लेना पड़ता है। ये अधिकारी द्विपक्षीय मामलों को सुलझाते हैं।

IAS (आईएएस) अधिकारियों की सैलॅरी

आईएएस अधिकारियों को विभिन्न संरचनाओं के अंतर्गत सैलॅरी मिलती है। इसमें जूनियर स्केल, सीनियर स्केल और सुपर टाइम स्केल शामिल है। इनके अलग-अलग सैलॅरी बैंड होते हैं। आईएएस अधिकारी HRA के हक़दार होते हैं। इसके साथ-साथ DA और TA का भी प्रावधान है।

इसे भी पढ़ें: क्या है भारतीय सेना और अर्द्धसैनिक बलों में फर्क की परिभाषा!

IPS (आईपीएस) अधिकारियों की सैलॅरी

इन अधिकारियों को PF, ग्रेच्युटी, हेल्थ केयर, आजीवन पेंशन, निवास, सर्विस क्वार्टर, परिवहन तथा अन्य तरह की सेवानिवृत्ति सुविधाएँ मिलती हैं। इसमें आईजी, डीआईजी, एडीजी, एसपी के आधार पर सैलरी मिलती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here